11:54 PM English Version»

 

आदर्श वाक्य

सिक्षार्थआईऐ सेवार्थजाइऐ|

द्रष्टि

१.       चिंता मुक्त शैक्षणिक वातावरण प्रदान करना |

२.      विद्यार्थियोंके लिए अच्छा माहौल बनाना और उन्हें अच्छा मानव बनाना |

३.      विद्यार्थियोंकोअपनी प्रतिभा पहचानने में उनकी मदद करना |

४.      प्रतिस्पर्धा को सहयोग से, बाध्यता को विकल्प से एवंतुलना को अहसास से बदलना |

५.     सभी मापदंडों पर एक छात्र का आकलन करने के मूल्यांकन के प्रति समग्र दृष्टिकोण अपनाना।

६.      विद्यार्थियों की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए खेल-कूद, पाठ्य-सहगामी क्रियाओं एवंवाह्य गतिविधियों का आयोजन करना |

७.     शैक्षिक प्रौद्योगिकी के माध्यम से कक्षा शिक्षण को समृद्ध करना|

८.      विद्यार्थियों के सफल जीवन हेतु १०० प्रतिशत प्रथम श्रेणी एवं ७० प्रतिशत विशेष योग्यता प्राप्त कराना |

९.       कक्षा-कक्ष शिक्षण कोजीवंत बनाने के लिएरचनावादी दृष्टिकोण, प्रक्रिया उन्मुख शिक्षण / शिक्षाप्रद दृष्टिकोण अपनाना|

नियोग

१.       विद्यार्थियोंका संपूर्ण विकास ताकिवह समाज में जिम्मेदार नागरिक की भूमिका का निर्वहन कर सके |

२.      विश्वस्तरीय सोच और स्थानीय स्तर पर कार्य करने के लिए प्रोत्साहन |

३.      मूल्य आधारित शिक्षा देने के लिए और एकीकरण और सांप्रदायिक सद्भाव पर राष्ट्र के लिए काम करने के लिए।

४.      आशावादी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए, जीवन के क्षेत्र में अनुकूलन क्षमता और शांतिपूर्ण समायोजन के संस्कार पैदा करने के लिए।

५.     नवीनतम, व्यावहारिक और उपयोगी अवधारणाओं और ज्ञान प्रदान करने के लिए |

footer
 Powered By- Macro Info Solutions कुल आगंतुक- 235582 पिछला परिवर्तन

15-01-2019

©2015 जवाहर नवोदय विद्यालय ,गौतमबुद्ध नगर, उत्तरप्रदेश